सऊदी अरब में शिया मस्जिद में आत्मघाती बम विस्फोट, 4 लोगों की मौत, 18 घायल                                                 पाक में मौजूद आतंकियों के सुरक्षित पनाहगाह समस्या पैदा कर रहे: अमेव्यापारी नेता मिले मंत्री गोप जी सेरिकी जनरल                                            पूर्वी रूस में 7.0 तीव्रता का भूकंप, सुनामी का खतरा नहीं

भारत केयर्न मामले में अपनी स्थिति स्पष्ट करेगा: जेटली

भारत सरकार केयर्न एनर्जी कर विवाद के संबंध में अपनी स्थिति संबद्ध कानूनी प्राधिकार के सामने स्पष्ट करेगा। यह बात वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ब्रिटेन की कंपनी की इस घोषणा के बाद कही कि वह भारत से एक अरब डॉलर से अधिक का हर्जाना मांगेगी। जेटली ने यह टिप्पणी कल ऐसे समय में की है जब ब्रिटेन की प्रमुख तेल कंपनी ने भारत आयकर विभाग की 10,247 करोड़ रुपये की कर मांग के संबंध में कानूनी कार्रवाई की घोषणा की। उन्होंने कहा, 'यह कर निर्धारण संबंधी आदेश है। मैंने पहले भी कहा है कि कई प्रक्रियाएं हैं जिनमें कुछ अंतरराष्ट्रीय निवेशकों ने कुछ कर निर्धारण आदेश के संबंध में गंभीर मुद्दे उठाए थे। उनके लिए जो उपलब्ध है उन्होंने उस कानूनी उपाय की शरण ली है।' वित्त मंत्री ने कहा, 'कुछ मामलों में ऐसे आदेश पारित हुए और कुछ मामलों में हमने अदालत का आदेश अंतिम फैसले की तरह स्वीकार कर लिया है और उन्हें विराम दे दिया है। जहां तक भारत सरकार का सवाल है हम निवेश के माहौल के वृहत्तर हित में भी चाहते हैं कि उनमें से कुछ मामलों को विराम दिया जाए।' उन्होंने कहा, 'इसलिए यदि एक निर्धारित विशेष कानून की शरण में जाता है कि आयकर विभाग अपनी स्थिति उस प्राधिकार के सामने स्पष्ट करेगा।' केयर्न एनर्जी पीएलसी ने कहा है कि वह भारत से 10,247 करोड़ रुपये की कर मांग के संबंध में मूल्यांकन में हुए नुकसान के मद्देनजर मुआवजे के तौर पर एक अरब डॉलर से अधिक राशि मांगेगी।

News Posted on: 21-01-2016
वीडियो न्यूज़
मासिक राशिफल