सऊदी अरब में शिया मस्जिद में आत्मघाती बम विस्फोट, 4 लोगों की मौत, 18 घायल                                                 पाक में मौजूद आतंकियों के सुरक्षित पनाहगाह समस्या पैदा कर रहे: अमेव्यापारी नेता मिले मंत्री गोप जी सेरिकी जनरल                                            पूर्वी रूस में 7.0 तीव्रता का भूकंप, सुनामी का खतरा नहीं

हर व्यक्त‌ि इन बातों को समझे तो व‌िश्व में शांत‌ि और सद्भाव संभव है

21 स‌ितंबर को व‌‌िश्व शांत‌ि द‌िवस के रुप में मनाया जाता है क्योंक‌ि मानव के व‌िकास और उन्नत‌ि के ल‌िए शांत‌ि सबसे जरुरी तत्व है। लेक‌‌िन साल में स‌‌िर्फ एक द‌िन को शांत‌ि द‌िवस के रुप में मनाने भर से यह उद्देश्य पूरा नहीं होता है।
समाज में द‌िन ब द‌िन असंतोष, व‌िषमता और द्वेष की भावना बढ़ती जा रही है और यह शांत‌ि को भंग करने काम कर रही है। आये द‌िन व‌िद्रोही गुट, आतंकी गुटों का जन्म हो रहा है और व‌िश्व के समाने में शांत‌ि एक चुनौती बनती जा रही है।
पं. श्रीराम शर्मा आचार्य का कहना है क‌ि दुन‌िया में शांत‌ि स्‍थापना के ल‌िए अगल से कुछ करने की जरुरत नहीं है हमे बस अपने अंदर झाकने की जरुरत भर है। वास्तव में दुनिया में शान्ति की स्थापना के लिए एकता और समता की आवश्यकता है। एकता की स्थापना के लिए समता आवश्यक है।
एक समर्थ, दूसरा असमर्थ रहे, तो समर्थ अहंकारिता प्रदर्शन के लिए अपहरण का प्रयास करेगा। जो असमर्थ है, वह अपने साथ अनीतिपूर्ण भेदभाव बरते जाने से निरंतर असंतुष्ट रहेगा। ईर्ष्या, द्वेष और प्रतिशोध के लिए जो कुछ भी प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से हो सके करने से चूकेगा नहीं।

News Posted on: 28-12-2015
वीडियो न्यूज़
मासिक राशिफल